You are currently viewing श्री गणेश प्रसन्न।।

श्री गणेश प्रसन्न।।

*जागतिक साहित्य कला व्यक्तित्व विकास मंच सदस्य ज्येष्ठ लेखक कवी गीतकार संगीतकार गायक श्री अरुण गांगल लिखित अप्रतिम गीत रचना*

*।।श्री गणेश प्रसन्न।।*

श्री गणेश ब्रह्मणस्पती निर्गुण निराकार
मूर्तिमंत चैतन्य महोपदेश खरोखर।।ध्रु।।

एकदंत शूर्पकर्ण वक्रतुंड लंबोदर
गजमुख अनेक रुप सगुण साकार।।1।।

विश्वाचा कर्ता धर्ता विघ्नहर्ता मनोहर
सच्चिदानंद विद्या कलांचा आविष्कार।।2।।

गकार:पूर्वरुपम मध्यम रुप आकार
बिंदू उत्तररुपम शांत्यरुपम अनुस्वार।।3।।

एक नादात्मक संहिता एक संहिता अक्षर
गणेश विद्या निच्छरुत गायत्री छंद थोर।।4।।

अकार उकार मकार चतुर्थ बिंदू नंतर
नाद अर्थ अनंत मंत्रांचा घडे साक्षात्कार।।5।।

काव्य:श्री अरुण गांगल.कर्जत रायगड महाराष्ट्र.
पिन.410201
Cell.9373811677.

 

प्रतिक्रिया व्यक्त करा

15 + 5 =